Aa Gayi Teri Yaad

Aa Gayi Teri Yaad

Aa Gayi Teri Yaad Dard Ka Lashkar Lekar,
Ab Kahan Jayein Hum Dil-e-Muztar Lekar.

आ गयी तेरी याद दर्द का लश्कर लेकर,
अब कहाँ जाएं हम दिल-ए-मुज़्तर लेकर।

Bahut Jee Chahta Hai Qaid-e-Jaan Se Nikal Jayein,
Tumhari Yaad Bhi Lekin Isee Malabe Mein Rahti Hai.

बहुत जी चाहता है क़ैद-​ए​-​जाँ से हम निकल जायें​,
तुम्हारी याद भी लेकिन इसी मलबे में रहती है।

Bhula Diya Hai Mujhe Zalim Ne Aadatan Bhi Magar,
Woh Baat Ke JisSe Yaad Aaoon Mujhme Thi Bhi Nahi.

भुला दिया है मुझे ज़ालिम ने आदतन भी मगर,
वो बात कि जिससे याद आऊँ मुझ में थी भी नहीं।

Leave a Comment