Aaj Dhundh Bahut Hai

Aaj Dhundh Bahut Hai

Aaj Dhundh Bahut Hai Mere Shahar Me,
Apne Dikhte Nahin, Aur Jo Dikhte Hain Wo Apne Nahin.

आज धुन्ध बहुत है मेरे शहर में,
अपने दिखते नहीं, और जो दिखते हैं वो अपने नहीं।

Aaj Dhundh Bahut Hai - Two Line Shayari

Haathon Kee Lakeere Padh Kar Ro Deta Hai Dil,
Sab Kuchh To Hai Magar Tera Naam Kyoon Nahin Hai.

हाथों की लकीरे पढ़ कर रो देता है दिल,
सब कुछ तो है मग़र तेरा नाम क्यूँ नहीं है।

Jo Nazaren Rookti Nahin Dhoodhnte Huye Manzil-E-Aham,
Un Nazaron Ki Giraft Me Ek Zamana Aaj Bhi Qaid Hai.

जो नज़रें रूकती नहीं ढूढंते हुए मंज़िल-ए-अहम,
उन नज़रों की गिरफ़्त में एक ज़माना आज भी क़ैद है।

Main Khwahish Ban Jaun, Aur Tu Rooh Ki Talab,
Bas Yun Hi Jee Lenge Dono Mohabbat Bankar.

मैं ख्वाहिश बन जाऊँ, और तू रूह की तलब,
बस यूँ ही जी लेंगे दोनों मोहब्बत बनकर।

Shataranj Me Vazeer Aur Zindagi Me Zameer,
Agar Mar Jaye To Samajhiye Khel Khatm.

शतरंज मे वज़ीर और ज़िंदगी मे ज़मीर,
अगर मर जाए तो समझिए खेल ख़त्म।

Leave a Comment