Aansu Ponchh Liye

Aansu Ponchh Liye

Bahut Chaha Usko Jise Hum Pa Na Sake,
Khayalon Me Kisi Aur Ko La Na Sake,
Usko Dekh Ke Aansu To Ponchh Liye,
Lekin Kisi Aur Ko Dekh Ke Muskura Na Sake.

बहुत चाहा उसको जिसे हम पा न सके,
ख्यालों में किसी और को ला न सके,
उसको देख के आँसू तो पोंछ लिए,
लेकिन किसी और को देख के मुस्कुरा न सके।

Chupke Chupke Koi Gham Ka Khana Humse Seekh Jaye,
Ji Hi Ji Me Til-milana Koi Hum Se Seekh Jaye,
Abr Kya Aansu Bahana Koi Humse Seekh Jaye,
Barq Kya Hai Til-milana Koi Humse Seekh Jaye.

चुपके चुपके कोई गम का खाना हम से सीख जाये,
जी ही जी में तिल-मिलाना कोई हम से सीख जाये,
अब्र क्या आँसू बहाना कोई हमसे सीख जाये,
बर्क क्या है तिल-मिलाना कोई हम से सीख जाये।
~ Sheikh Ibrahim Zauq

Na Jane Kyu Hume Aansu Bahana Nahi Aata Hai,
Na Jane Kyu Haal-E-Dil Batana Nahi Aata,
Kyu Sab Dost Bichhad Gaye Humse,
Shayad Hume Hi Sath Nibhana Nahi Aata.

न जाने क्यों हमें आँसू बहाना नहीं आता,
न जाने क्यों हाल-ऐ-दिल बताना नहीं आता,
क्यों सब दोस्त बिछड़ गए हमसे,
शायद हमें ही साथ निभाना नहीं आता।

Leave a Comment