Aansu Shayari, Ab Mumkin Na Hoga

Aansu Shayari, Ab Mumkin Na Hoga

Ab Mumkin Na Hoga Waapsi Ka Safar,
Hum To Nikal Chuke Hain Aankh Se Aansu Ki Tarah.

अब मुमकिन न होगा वापसी का सफर,
हम तो निकल चुके हैं आँख से आँसू की तरह।

Bahta Aansu Ek Jhalak Me Kitne Roop Dikhayega,
Aankh Se Hokar Gaal Bhigokar Mitti Me Mil Jayega.

बहता आँसू एक झलक में कितने रूप दिखाएगा
आँख से होकर गाल भिगोकर मिट्टी में मिल जाएगा।

Tu Ishq Ki Dusri Nishani De De Mujhko,
Aansu To Roj Gir Ke Sookh Jaate Hain.

तू इश्क की दूसरी निशानी देदे मुझको,
आँसू तो रोज गिर के सूख जाते हैं।

Jab Bikhrega Intezaar Me Zameen Par Teri Aankh Ka Aansu,
Ehsaas Tujhe Tab Hoga Mohabbat Kisko Kahte Hain.

जब बिखरेगा इंतज़ार में ज़मीन पर तेरी आँख का आँसू,
एहसास तुझे तब होगा मोहब्बत किसको कहते हैं।

Leave a Comment