Aarzoo Sirf Tumhara Sath

Aarzoo Sirf Tumhara Sath

Ye Tere Ishq Ka Kitna Haseen Ehsaas Hai,
Lagta Hai Jaise Tu Har Pal Mere Paas Hai,
Mohabbat Teri Deewangi Ban Chuki Hai Meri,
Ab Zindagi Ki Aarzoo Sirf Tumhara Sath Hai.

ये तेरे इश्क का कितना हसीन एहसास है,
लगता है जैसे तू हर पल मेरे पास है,
मोहब्बत तेरी दीवानगी बन चुकी है मेरी,
अब जिंदगी की आरजू सिर्फ तुम्हारा साथ है।

Teri Aarzoo Mera Khwaab Hai,
Jiska Raasta Bahut Kharab Hai,
Mere Zakham Ka Andaza Na Laga,
Dil Ka Har Panna Dard Ki Kitaab Hai.

तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है,
जिसका रास्ता बहुत खराब है,
मेरे जख्म का अंदाज़ा न लगा,
दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है।

Na Takht-O-Taaj Ki Aarzoo,
Na Bazm Shah Ki Justju,
Jo Najar Dil Ko Badal Sake,
Mujhe Us Nugah Ki Talas Hai.

न तख्त-ओ-ताज की आरजू
न बज्म शाह की जुस्तजू,
जो नजर दिल को बदल सके
मुझे उस निगाह की तलाश है।

Aarzoo Shayari - Na Takht-o-Taaj Ki Aarzoo

Khat Likhun To Kya Likhun
Aarzoo Madhosh Hai,
Khat Par Gir Rahe Hain Aansu
Aur Kalam Khamosh Hai.

ख़त लिखूं तो क्या लिखूं
आरजू मदहोश है,
ख़त पे गिर रहे हैं आंसू
और कलम खामोश है।

Leave a Comment