Aasmaan Chhune Ki Fitrat

Aasmaan Chhune Ki Fitrat

Zamin Par Rah Kar Aasmaan Chhune Ki Fitrat Hai Meri,
Par Gira Kar Kisi Ko Upar Uthane Ka Shauk Nahi Mujhe.

ज़मीं पर रह कर आसमान छूने की फितरत है मेरी,
पर गिरा कर किसी को उपर उठने का शौक नहीं मुझे।

Aasmaan Chhune Ki Fitrat - Latest Attitude Shayari For Whtsapp

Sahi Waqt Par Karwa Denge Hadon Ka Ehsaas,
Kuchh Talaab Khud Ko Samandar Samajh Baithe Hain.

सही वक़्त पर करवा देंगे हदों का एहसास,
कुछ तालाब खुद को समंदर समझ बैठे हैं

Chhod Di Hai Ab Hamne Wo Fanakari Warna,
Tujh Jaise Haseen To Kalam Se Bana Diya Karte The.

छोड़ दी है अब हमने वो फनकारी वरना,
तुझ जैसे हसीं तो कलम से बना दिया करते थे।

Naaj Kya Ispe Jo Badla Zamane Ne Tumhen,
Warana Ham To Wo Hain Jo Jamana Badal Dete Hain.

नाज क्या इसपे जो बदला ज़माने ने तुम्हें,
वरना हम तो वो हैं जो जमाना बदल देते हैं।

Leave a Comment