Aawargi Shayari, Meri Aawargi Thi

Aawargi Shayari, Meri Aawargi Thi

Meri Aawargi Thi… Mera Junoon Tha,
Tere Pyaar Ke Nashe Mein Main Ek Dum Choor Tha,
Logo Ne Kaha Tera Pyaar Gehra Sagar Hai,
Magar Tujh Mein Doob Jaana Hi Hamein Manjoor Tha.

मेरी आवारगी थी… मेरा जूनून था,
तेरे प्यार के नशे में मैं एक दम चूर था,
लोगो ने कहा तेरा प्यार गहरा सागर है
मगर तुझ में डूब जाना ही हमे मंजूर था।

Aawargi Shayari - Meri Aawargi In HIndi

Main Shayar Nahi Bas Dil Ke Ehsaso Ko
Sabdo Ka Roop De Deta Hun,
Jahan Dikh Gaye Haseen Chehre
Thodi Bahut Aawargi Kar Lwta Hun.

मै शायर नही बस दिल के अहसासो को
शब्दो का रूप दे देता हूँ,
जहाँ दिख गये हसीन चेहरे
थोड़ी बहुत आवारगी कर लेता हूँ।

Jab Bhi Apni Shakhsiyat Par Ahankar Ho,
Ek Fera Shamshaan Ka Jarur Laga Lena,
Tere Deedar Ki Aash Me Aate Hain Teri Galiyo Me,
Warna Sara Saher Pada Hai Aawargi Ke Liye.

जब भी अपनी शख्शियत पर अहंकार हो,
एक फेरा शमशान का जरुर लगा लेना,
तेरे दीदार की आस में आते हैं तेरी गलियों में,
वरना सारा शहर पड़ा है आवारगी के लिए।

Leave a Comment