Abhi Hai Aarzoo

Abhi Hai Aarzoo

Ai Maut Tujhe Bhi Gale Laga Lunga Jara Thahar,
Abhi Hai Aarzoo Sanam Se Lipat Jaane Ki.

ऐ मौत तुझे भी गले लगा लूँगा जरा ठहर,
अभी है आरज़ू सनम से लिपट जाने की।

Khuda Ko Bhi Hai Aarzoo Teri,
Humari To Bhala Aukat Kya Hai.

खुदा को भी है आरज़ू तेरी,
हमारी तो भला औकात क्या है।

Jara Siddat Se Chaho Tabhi Hogi Aarzoo Poori,
Hum Wo Nahi Jo Tumhen Khairaat Me Mil Jaayen.

ज़रा शिद्दत से चाहो तभी होगी आरज़ू पूरी,
हम वो नहीं जो तुम्हे खैरात में मिल जायेंगे।

Khamosh Sa Sahar Aur Guftgun Ki Aarzoo,
Hum Kis Se Karen Baat Koi Bolta Hi Nahi.

ख़ामोश सा शहर और गुफ़्तगू की आरज़ू,
हम किस से करें बात, कोई बोलता ही नही।

Muddat Se Thi Kisi Se Milne Ki Aarzoo,
Khwaaish-E-Deedar Me Sab Kuchh Hula Diya,
Kisi Ne Di Khabar Wo Aayenge Raat Ko,
Itna Kiya Ujala Apna Ghar Tak Jala Diya.

मुददत से थी किसी से मिलने की आरज़ू,
ख्वईश-ए-दीदार में सब कुछ भुला दिया,
किसी ने दी खबर वो आएंगे रात को,
इतना किया उजाला अपना घर तक जला दिया।

Leave a Comment