Adaa Nigaahon Se

Adaa Nigaahon Se

Adaa Nigaahon Se Hota Hai Farz-e-Goyai,
Jubaan Ki Hadd Se Jab Shauke-Bayaan Gujarta Hai.

अदा निगाहों से होता है फ़र्ज़-ए-गोयाई,
जुबान की हद से जब शौके-ए-बयां गुजरता है।

Kya Kashish Thi UsKi Aankho Me Mat Poochho,
Mujhse Mera Dil Larh Pada Mujhe Yehi Chahiye.

क्या कशिश थी उसकी आँखों में मत पूछो,
मुझसे मेरा दिल लड़ पड़ा मुझे येही चाहिए।

Aankhein Shayari, Kya Kashish Thi Unki Aankhon Me

Peete Peete Jab Bhi Aaya Teri Aankho Ka Khayal,
Maine Apne Haath Se Tode Hain Paimane Bahut.

पीते पीते जब भी आया तेरी आँखों का ख्याल,
मैंने अपने हाथ से तोड़े हैं पैमाने बहुत।

Leave a Comment