Afsos Wahi Log

Afsos Wahi Log

Gam Nahi Ke Tum Bewafa Nikli,
Magar Afsos Iss Baat Ka Hai,
Wo Sab Log Sach Nikle,
Jinse Main Tere Liye Lada Tha.

गम नहीं के तुम बेवफा निकली,
मगर अफ़सोस इस बात का है,
वो सब लोग सच निकले,
जिनसे मैं तेरे लिए लड़ा था।

man back

Pathar Samajh Kar Paon Se Thokr Laga Di,
Afsos Teri Aankh Ne Parkha Nahi Mujhe,
Kya Umeedein Bandh Kar Aaya Tha Samne,
Us Ne To Aankh Bhar Ke Dekha Nahi Mujhe.

पत्थर समझ कर पांव से ठोकर लगा दी,
अफ़सोस तेरी आँख ने परखा नहीं मुझे,
क्या उम्मीदें बाँध कर आया था सामने,
उस ने तो आँख भर कर देखा नहीं मुझे।

Rakhte The Hontho Pe Ungliyan Jo Mere Marne Ke Naam Se,
Afsos Wahi Log Mere Dil Ke Qatil Nikle.

रखते थे होंठो पे उँगलियाँ जो मेरे मरने के नाम से,
अफ़सोस वही लोग मेरे दिल के कातिल निकले।

Leave a Comment