Afsos Wo Badla Nahi, Afsos Shayari

Afsos Wo Badla Nahi, Afsos Shayari

Afsos Ye Nahi Hai Ki Dard Kitna Hai,
Afsos To Ye Hai Ki Bas Tumhen Parwah Nahi.

अफसोस ये नहीं है कि दर्द कितना है,
अफसोस तो ये है कि बस तुम्हें परवाह नहीं।

Main Fanaa Ho Gaya Afsos WoBadla Bhi Nahi,
Meri Chahato Se Bhi Sacchi Rahi Nafrat Uski.

मैं फना हो गया अफ़सोस वो बदला भी नहीं,
मेरी चाहतों से भी सच्ची रहीं नफरतें उसकी।

alone man

Na Mohabbat Sambhali Gayi Na Nafratein Paali Gayi,
Afsos Hai Uss Zindagi Ka Jo Tere Peechhe Khali Gayi.

न मोहब्बत सभाली गई न नफरतें पाली गयी,
अफ़सोस है उस जिंदगी का जो तेरे पीछे खाली गयी।

Leave a Comment