Ai Dil Kuchh To Bata

Ai Dil Kuchh To Bata

Zamane Bhar Ki Ruswayian Aur Bechain Raatein,
Ai Dil Kuchh To Bata Ye Maazra Kya Hai?

ज़माने भर की रुसवाईयां और बेचैन रातें,
ऐ दिल कुछ तो बता ये माज़रा क्या है?

Aap Pahlu Me Jo Baithe To Baithe Sabhal Kar,
Dil-E-Betaab Ko Adat Hai Machal Jaane Ki.

आप पहलू में जो बैठें तो सँभल कर,
दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की।

Dil Tootne Se Thodi Si Takleef To Hui,
Lekin Tamam Umr Ko Araam Ho Gaya.

दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ़ तो हुई,
लेकिन तमाम उम्र को आराम हो गया।

Gham Wo May-Khana Kami Jis Me Nahi,
Dil Wo Paimana Hai Bhrta Hi Nahi.

ग़म वो मय-ख़ाना कमी जिस में नहीं,
दिल वो पैमाना है भरता ही नहीं।

Aaj Tak Dil Ki Aarzoo Hai Bahi,
Phool Murjha Gaya Hai Khushboo Hai Bahi.

आज तक दिल की आरज़ू है वही,
फूल मुरझा गया है खुशबू है वही।

Leave a Comment