Ai Gham-E-Jana

Ai Gham-E-Jana

Kuch Aur Bhi Hai Kaam Hame Ai Gham-E-Jana,
Kab Tak Koi Uljhi Hui Zulfon Ko Sanbare.

कुछ और भी हैं काम हमें ऐ ग़म-ए-जाना,
कब तक कोई उलझी हुई ज़ुल्फ़ों को सँवारे।

Ai Gham-e-Jana - Zulf Shayari

Dil Uski Taar-E-Zulf Me Ulajh Gaya,
Suljhega Kis Tarah Ye Bistaar Hai Gajab.

दिल उसकी तार-ए-ज़ुल्फ़ में उलझ गया,
सुलझेगा किस तरह से ये बिस्तार है ग़ज़ब।

Jab Yaar Ne Utha Kar Zulfon Ke Baal Baandhe,
Tab MainNe Apne Dil Me Laakhon Khayaal Baandhe.

जब यार ने उठा कर ज़ुल्फ़ों के बाल बाँधे,
तब मैंने अपने दिल में लाखों ख़याल बाँधे।

Kabhi Khole To Kabhi Zulf Ko Bikharae Hai,
Zindagi Shaam Hai Aur Shaam Dhali Jaye Hai.

कभी खोले तो कभी ज़ुल्फ़ को बिखराए है,
ज़िंदगी शाम है और शाम ढली जाए है।

Kis Ne Bheege Huye Baalon Se Ye Jhataka Paani,
Jhoom Ke Aayi Ghata Toot Ke Barasa Paani.

किस ने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी,
झूम के आयी घटा टूट के बरसा पानी।

Leave a Comment