Aisa Sath Hain Hum

Aisa Sath Hain Hum

Jo Koi Samajh Na Sake Wo Baat Hain Hum,
Jo Dhal Ke Nayi Subah Laye Wo Raat Hain Hum,
Chhod Dete Hain Log Rishte Banakar Yu Hi,
Jo Kabhi Na Chhute Aisa Sath Hain Hum.

जो कोई समझ न सके वो बात है हम,
जो ढल के नई सुबह लाये वो रात हैं हम,
छोड़ देते हैं लोग रिस्ते बनाकर यूँ ही,
जो कभी न छूटे ऐसा साथ हैं हम।

Leave a Comment