Ajab Si Bechaini Jagi Hai

Ajab Si Bechaini Jagi Hai

Tere Intezar Me Yeh Najren Jhuki Hain,
Tera Didaar Karne Ki Chaah Jagi Hai,
Na Jaanu Tera Naam, Na Tera Pata,
Fir Bhi Na Jaane Kyun Is Pagal Dil Me,
Ek Ajab Si Bechaini Jagi Hai.

तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं,
तेरा दीदार करने की चाह जगी है,
न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता,
फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में,
एक अज़ब सी बेचैनी जगी है।

Leave a Comment