Aksar Wohi Log

Aksar Wohi Log

Aksar Wohi Log Uthhate Hain Hum Par Ungliyan,
Jinki Humein Chhune Ki Aukaat Nahi Hoti.

अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उँगलियाँ,
जिनकी हमे छुने की औकात नहीं होती।

Abhi Kanch Hun Isaliye Duniya Ko Chubhta Hun,
Jab Aainaa Ban Jaunga Poori Duniya Dekhegi.

अभी कांच हूँ इसलिए दुनिया को चुभता हूँ,
जब आइना बन जाऊंगा पूरी दुनिया देखेगी।

Surme Ki Tarah Peesa Hai Hame Halaato Ne,
Tab Ja Ke Chade Hain Logo Ki Nigaahon Me.

सुरमे की तरह पीसा है हमे हालातो ने,
तब जा के चड़े हैं लोगो की निगाहों में।

Log Mujhe Apne Hothon Se Lagaye Huye Hain,
Meri Shohrat Kisi Ke Naam Ki Mohtaaz Nahin.

लोग मुझे अपने होठों से लगाये हुए हैं,
मेरी शोहरत किसी के नाम की मोहताज़ नहीं।

Leave a Comment