Ameer Hote Hue Bhi

Ameer Hote Hue Bhi

Main Khul ke Has Raha Hun Fakir Hote Hue Bhi,
Wo Muskra Bhi Na Paya Ameer Hote Hue Bhi.

मैं खुल के हँस तो रहा हूँ फ़क़ीर होते हुए,
वो मुस्कुरा भी न पाया अमीर होते हुये।

Leave a Comment