Andaaza Meri Tabahi Ka

Andaaza Meri Tabahi Ka

Tum Kya Laga Paoge..?
Andaaza Meri Tabahi Ka,
Tumne Dekha Hi Kahan Hai
Mujhko Shaam Ke Baad.

तुम क्या लगा पाओगे ..?
अंदाज़ मेरी तबाही का,
तुमने देखा कहाँ है
मुझको शाम के बाद।

Dard Kafi Hai Bekhudi Ke Liye,
Maut Kafi Hai Zindagi Ke Liye,
Kaun Marta Hai Kisi Ke Liye,
Ham To Zinda Hai Aapke Liye.

दर्द काफी है बेखुदी के लिए,
मौत काफी है ज़िन्दगी के लिए,
कौन मरता है किसी के लिए,
हम तो ज़िंदा है आपके लिए।

Leave a Comment