Anjaan Raahon Mein

Anjaan Raahon Mein

Ham Bhatkte Rahe The Anjaan Raahon Mein,
Raat Din Kaat Rahe The Yun Hi Bas Aanhon Mein,
Ab Tamanna Hui Hai Fir Se Ab Jeene Ki Hume,
Kuch Baat Hai Sanam Teri In Nigahon Mein.

हम भटकते रहे थे अनजान राहों में,
रात दिन काट रहे थे यूँ ही बस आहों में,
अब तम्मना हुई है फिर से जीने की हमें,
कुछ तो बात है सनम तेरी इन निगाहों में।

Aankhen Shayari, Teri In Nigahon Me

Mehfil Ajeeb Hai Na Yeh Manzar Ajeeb Hai,
Jo Usne Chalaya Wo Khanjar Ajeeb Hai,
Na Doobne Deta Hai Na Ubarne Deta Hai,
Uski Aankhon Ka Wo Samandar Ajeeb Hai.

महफिल अजीब है, ना ये मंजर अजीब है,
जो उसने चलाया वो खंजर अजीब है,
ना डूबने देता है, ना उबरने देता है,
उसकी आँखों का वो समंदर अजीब है।

Teri Nigaah Se Aisi Sharab Pee Maine,
Phir Na Hosh Ka Daava Kiya Kabhi Maine,
Woh Aur Honge Jinhein Maut Aa Gayi Hogi,
Nigaah-e-Yaar Se Payi Hai Zindagi Maine.

तेरी निगाह से ऐसी शराब पी मैंने,
फिर न होश का दावा किया कभी मैंने,
वो और होंगे जिन्हें मौत आ गई होगी,
निगाह-ए-यार से पाई है जिन्दगी मैंने।

Leave a Comment