Apna Khayal Rakhna

Apna Khayal Rakhna

Door Rehne Wale Tujhse Bas Yahi Kuhunga Ki,
Jab Bhi Mera Khayal Aye Tum Apna Khayal Rakhna.

दूर रहने वाले तुझसे यही बस यही कहूँगा कि,
जब भी मेरा ख्याल आये तुम अपना ख्याल रखना।

Apna Khayal Rakhna Shayari

Tera Zikr… Teri Fikr… Tera Ehsaas… Tera Khyaal,
Tu Khuda Nahin… Phir Har Jagah Maujood Kyu Hai.

तेरा ज़िक्र… तेरी फिक्र… तेरा एहसास… तेरा ख्याल,
तू खुदा नहीं… फिर हर जगह मौज़ूद क्यूँ है।

Ab To In Aankhon Se Bhi Jalan Hoti Hai Mujhe,
Khuli Ho To Khayal Tere Band Ho To Khwaab Tere.

अब तो इन आँखों से भी जलन होती है मुझे,
खुली हो तो ख्याल तेरे बंद हो तो ख़्वाब तेरे।

Aisa Nahi Ki Shakhs Achchha Nahin Tha Woh,
Jaisa Mere Khayal Me Tha Bas Baisa Nahi Tha.

ऐसा नहीं कि शख्स अच्छा नहीं था वो,
जैसा मेरे ख्याल में था बस वैसा नहीं था।

Abhi To Dil Kar Raha Hai Ki Bas So Jaaun,
Tere Khayalon Ke Ghane Jangal Me Kho Jaaun.

अभी तो दिल कर रहा है कि बस सो जाऊं,
तेरे ख्यालों के घने जंगल में खो जाऊँ।

Ek Din Yaadon Me Simate, Khayal Mera Tujhe Bhi Aaega,
Ho Sakta Hai Mujhe Kho Dene Ka Malal ,Us Din Tujhe Bhi Rulaega.

एक दिन यादों में सिमटे, ख़्याल मेरा तुझे भी आएगा,
हो सकता है मुझे खो देने का मलाल,उस दिन तुझे भी रुलाएगा।

Leave a Comment