Apne Zakhmo Ka Ujala

Apne Zakhmo Ka Ujala

Tere Vaado Ne Hume Ghar Se Nikalne Na Diya,
Log Mausam Ka Mazaa Le Gaye Barsaaton Me,
Ab Na Suraj Na Sitaare Na Shamma Na Chaand,
Apne Zakhmo Ka Ujala Hai Ghani Raaton Me.

तेरे वादों ने हमें घर से निकलने न दिया,
लोग मौसम का मजा ले गए बरसातों में,
अब न सूरज न सितारे न शम्मा ना चाँद,
अपने जख्मो का उजाला है घनी रातों में।

Kahan Koi Mila Jis Par Dil Luta Dete,
Har Ek Ne Dhokha Diya Kis Kis Ko Bhula Dete,
Rakhte Hain Dil Me Chhupa Ke Apna Dard,
Karte Bayan To Mahafil Ko Rula Dete.

कहां कोइ मिला जिस पर दिल लुटा देते,
हर एक ने धोखा दिया किस किस को भुला देते,
रखते हैं दिल में छुपा के अपना दर्द,
करते बयान तो महफिल को रुला देते।

Leave a Comment