Badi Aarzoo Thi

Badi Aarzoo Thi

Na Jee Bhar Ke Dekha Na Kuchh Baat Ki,
Badi Aarzoo Thi Mulakaat Ki.

Kayi Saal Se Kuchh Khabar Hi Nahi,
Kahan Din Gujara Kahaan Raat Ki

Ujalon Ki Pariya Nahane Lagi,
Nadi Gungunayi Khyalat Ki.

Main Chup Tha To Chalti Hawaa Ruk Gayi,
Jubaan Sab Samajhte Hain Jazbaat Ki.

Sitaron Ko Shayad Khabar Hi Nahin,
Musafir Ne Jaane Kahaan Raat Ki.

Muqaddar Mere Chashm-e-Pur Ab Ka,
Barsati Huyi Raat Barsaat Ki.

न जी भर के देखा न कुछ बात की ,
बड़ी आरज़ू थी मुलाकात की।

कई साल से कुछ खबर ही नहीं,
कहाँ दिन गुजरा कहाँ रात की।

उजालो की परियां नहाने लगी,
नदी गुनगुनाई खयालात की।

मैं चुप था तो चलती हवा रुक गयी,
जुबान सब समझते हैं जज्बात की।

सितारों को शायद खबर ही नहीं,
मुसाफिर ने जाने कहाँ रात की।

मुकद्दर मेरे चस्म-ए-पुर अब का,
बरसाती हुई रात बरसात की।

Kaun Poochhta Hai Pinjre Me Band Panchhiyon Ko,
Yaad Bahi Aate Hain Jo Ud Jaate Hain,
Yeh Aarzoo Nahi Ki Kisi Ko Bhulaye Hum,
Na Tamnna Hai Ki Kisi Ko Rulaye Hum,
Jisko Jitna Yaad Karte Hain,
Ai Khuda Use Bhi Utna Hi Yaad Aaye Hum.

कौन पूछता है पिंजरे में बंद पंछियों को,
याद वही आते हैं जो उड़ जाते हैं,
यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम,
न तमन्ना है कि किसी को रुलाएं हम,
जिसको जितना याद करते हैं,
ऐ खुदा उसे भी उतना ही याद आयें हम।

Leave a Comment