Bahut Takleef Deta Hai

Bahut Takleef Deta Hai

Jo Tum Bolo Bikhar Jaye Jo Tum Chaho Sanwar Jaye,
Magar Yu Tutna Judna Bahut Takleef Deta Hai.

जो तुम बोलो बिखर जाये जो तुम चाहो संवर जाये,
मगर यूँ टूटना जुड़ना बहुत तकलीफ देता है।

Meri Fitarat Hi Kuchh Aisi Hai Ki,
Dard Sahane Ka Lutf Uthata Hun Main

मेरी फितरत ही कुछ ऐसी है कि,
दर्द सहने का लुत्फ़ उठाता हूँ मैं।

Maine Poochha Log Kab Chahenge, Mujhe Meri Tarah,
Bas Muskura Ke Kah Diya Sawaal Achchha Hai.

मैंने पूछा लोग कब चाहेंगे, मुझे मेरी तरह,
बस मुस्कुरा के कह दिया सवाल अच्छा है।

Kyon Gareeb Samajhte Hain Mujhe Ye Jahan Wale,
Hajaron Dard Ki Daulat Se Malamaal Hain Ham.

क्यों गरीब समझते हैं मुझे ये जहां वाले,
हजारों दर्द की दौलत से मालामाल हैं हम।

Dard Ki Chaahat Kise Hoti Hai Mere Yaaro,
Ye To Mohabbat Ke Saath Muft Me Milta Hai.

दर्द की चाहत किसे होती है मेरे यारो,
ये तो मोहब्बत के साथ मुफ़्त में मिलता है।

Leave a Comment