Balaa Hai Ishq

Balaa Hai Ishq

Kaya Kahun Tumse Main Ke Kya Hai Ishq,
Jaan Ka Rog Hai Balaa Hai Ishq.

क्या कहूँ तुमसे मैं के क्या है इश्क,
जान का रोग है बला है इश्क।

Tamnna Tere Jism Ki Hoti To Chheen Lete Duniya Se,
Ishq Teri Rooh Se Hai Isaliye, Khuda Se Mangte Hain Tujhe.

तमन्ना तेरे जिस्म की होती तो छीन लेते दुनिया से,
इश्क तेरी रूह से है इसलिए, खुदा से मांगते हैं तुझे।

Huye Badnaam Magar Phir Bhi Na Sudhar Paye Ham,
Phir Bahi Shayari, Phir Bahi Ishq, Phir Bahi Tum.

हुए बदनाम मगर फिर भी न सुधर पाए हम,
फिर वही शायरी, फिर वही इश्क, फिर वही तुम।

Tere Ishq Se Mili Hai Mere Wajood Ko Ye Shauhrat,
Mera Zikr Hi Kahan Tha Teri Dastaan Se Pahle.

तेरे इश्क से मिली है मेरे वजूद को ये शौहरत,
मेरा ज़िक्र ही कहाँ था तेरी दास्ताँ से पहले।

Leave a Comment