Barish Ka Yeh Mausam

Barish Ka Yeh Mausam

Barish Ka Yeh Mausam Kuchh Yaad Dilata Hai,
Kisi Ke Saath Hone Ka Ehsaas Dilata Hai,
Fiza Bhi Sard Hai Yaadein Bhi Taaza Hai,
Yeh Mausam Kisi Ka Pyaar Dil Me Jagata Hai.

बरिश का यह मौसम कुछ याद दिलाता है,
किसी के साथ होने का एहसास दिलाता है,
फिजा भी सर्द है यादें भी ताज़ा हैं,
यह मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता है।

girl in rain

Badlo Ke Darmiyan Kuch Aisi Sajish Hui,
Mera Mitti Ka Ghar Tha Bahan Hi Barish Hui,
Falak Ko Adat Thi Jahan Bijliyan Girane Ki,
Humko Bhi Jid Thi Bahan Ashiyana Banane Ki.

बादलों के दरमियान कुछ ऐसी साज़िश हुई,
मेरा मिटटी का घर था वहां ही बारिश हुई,
फ़लक को आदत थी जहाँ बिजलियाँ गिराने की,
हमको भी जिद्द थी वहां आशियाना बनाने की।

Wo Mere Ru-Ba-Ru Aya Bhi To Barishon K Mousam Mein,
Mere Aansoo Beh Rahe The Wo Barsat Samajh Betha.

वो मेरे रु-बा-रु आया भी तो बरसात के मौसम में,
मेरे आँसू बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा।

Leave a Comment