Barishon Ka Ghar

Barishon Ka Ghar

Mera Shahar To Barishon Ka Ghar Thhehra,
Yehan Ki Aankh Ho Ya Dil Bahot Barasti Hain.

मेरा शहर तो बारिसों का घर ठेहरा,
एहन की आँख हो या दिल बहोत बरसती हैं।

Rahne Do Ki Ab Tum Bhi Mujhe Parh Na Sakoge,
Barsat Me Kagaj Ki Tarh Bheeg Gaya Hun Main.

रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे,
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं।

paper bote

Leave a Comment