Barsaat Ka Baadal, Barsaat Shayari

Barsaat Ka Baadal, Barsaat Shayari

Kahin Fisal Na Jaun Tere Khayalo Me Chalte Chalte,
Apni Yaadon Ko Roko Mere Shahar Me Barish Ho Rahi Hai.

कहीं फिसल न जाऊं तेरे ख्यालों में चलते चलते,
अपनी यादों को रोको मेरे शहर में बारिश हो रही है।

Barsaat Ka Baadal To Deewana Hai Kya Jaane, 
Kis Raah Se Bachna Hai Kis Chhat Ko Bhigona Hai.

बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने,
किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है।

Baras Rahi Thi Barish Baahar,
Aur Wo Bheeg Raha Tha Mujh Mein.

बरस रही थी बारिश बाहर,
और वो भीग रहा था मुझ में।

Jab Ataa Hai Ye Barsaat Ka Mausam,
Teri Yaad Hoti Hai Sath Ham Dam,
Is Mausam Me Nahi Karenge Yaad Ye Socha Hai Hamne,
Par Fir Socha Kaise Barish Ko Rok Payenge Ham.

जब आता है ये बरसात का मौसम,
तेरी याद होती है साथ हम दम,
इस मौसम में नहीं करेंगे याद तुझे ये सोचा है हमने,
पर फिर सोचा कैसे बारिश को रोक पायेंगे हम।

Leave a Comment