Barsat Ki Raton Me

Barsat Ki Raton Me

Ab Bhi Barsat Ki Raton Me Badan TootTa Hai,
Jaag Uthti Hain Ajab Khwahisen Angdaiyon Ki.

अब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है,
जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाईयों की।

girl in rain

Hairat Se Takta Hai Sahra Barish Ke Najrane Ko,
Kitni Door Se Aai Hai Ye Ret Se Hath Milane Ko.

हैरत से ताकता है सहरा बारिश के नज़राने को,
कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को।

Majbooriyan Odh Ke Nikalta Hun Ghar Se Aajkal,
Barna Shauk To Aaj Bhi Hai Barishon Me Bheegne Ka.

मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ घर से आजकल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशो में भीगने का।

Leave a Comment