Beauty Shayari, Phool Bankar

Beauty Shayari, Phool Bankar

Kuch Is Tarah Se Wo Muskurate Hain,
Ki Paresaan Log Unhe Dekh Kar Khush Ho Jate Hain,
Unki Baton Ka Aji Kya Kahiye,
Alfaaz Phool Bankar Hothon Se Nikal Aate Hain.

कुछ इस तरह से वो मुस्कुराते हैं,
कि परेशान लोग उन्हें देख कर खुश हो जाते हैं,
उनकी बातों का अजी क्या कहिये,
अल्फ़ाज़ फूल बनकर होंठों से निकल आते हैं।

Tareef Shayari - Phool BanKar

Aapke Deedar Ko Nikal Aaye Hain Taare,
Aapki Khushboo Se Chha Gayi Hai Baharen,
Aapke Saath Dikhte Hain Kuch Aise Nazare,
Ki Chhup-Chhup Ke Chand Bhi Aap Hi Ko Nihare.

आपके दीदार को निकल आये हैं तारे,
आपकी खुसबू से छा गयी हैं बहारें,
आपके साथ दिखते हैं कुछ ऐसे नज़ारे,
कि छुप-छुप के चाँद भी आप ही को निहारे।

Leave a Comment