Begaane Bhi Chale Aate Hain

Begaane Bhi Chale Aate Hain

Mohabbat Ke Naam Pe Deewane Chale Aate Hain,
Shama Ke Peeche Parwane Chale Aate Hain,
Tumhe Yaad Na Aaye To Chale Aana Meri Maut Par,
Us Din To Begaane Bhi Chale Aate Hain.

मोहब्बत के नाम पे दीवाने चले आते हैं,
शमा के पीछे परवाने चले आते हैं,
तुम्हें याद न आये तो चले आना मेरी मौत पर,
उस दिन तो बेगाने भी चले आते हैं।

Maut Shayari - Begane Bhi Chale Aate Hain

Waqt Guzrega To Ham Sambhal Jaayenge,
Maut Aane Se Pahle Samajh Jaayenge,
Ki Bewafai Unki Fitrat Hai Na Ki Majaboori,
Tanhayi Mein Hi Sahi, Ham Phir Se Bas Jaayenge.

वक़्त गुज़रेगा तो हम संभल जायेंगे,
मौत आने से पहले समझ जायेंगे,
कि बेवफ़ाई उनकी फ़ितरत है ना की मजबूरी,
तन्हाई में ही सही, हम फिर से बस जायेंगे।

Bin Aapke Kuchh Bhi Achchha Nahi Lagta,
Ab Mera Wajood Bhi Sachcha Nahi Lagta,
Sirf Aapke Intezaar Me Kat Rahi Hai Ye Zindagi,
Warna Maut Ke Aagosh Me So Jaati Ye Zindagi.

बिन आपके कुछ भी अच्छा नहीं लगता,
अब मेरा वजूद भी सच्चा नहीं लगता,
सिर्फ आपके इंतज़ार में कट रही है ये ज़िंदगी,
वरना मौत के आगोश में सो जाती ये ज़िंदगी।

Leave a Comment