Bekasi Dekhi Nahi Jati

Bekasi Dekhi Nahi Jati

Idhar Se Aaj Wo Gujre To Munh Phere Hue Gujre
Ab Unn Se Bhi Humari Bekasi Dekhi Nahi Jati.

इधर से आज वो गुजरे तो मुँह फेरे हुए गुजरे,
अब उन से भी हमारी बेकसी देखी नहीं जाती।

Jakhm To Ham Bhi Apne Dil Me Tumse Gahre Rakhte Hain,
Magar Ham Jakhmo Pe Muskurahaton Ke Pahare Rakhte Hain.

जख्म तो हम भी अपने दिल में तुमसे गहरे रखते हैं,
मगर हम जख्मों पे मुस्कुराहटों के पहरे रखते हैं।

Nikle Ham Duniya Ki Bheed Me To Pata Chala,
Ki Har Vah Shakhs Akela Hai Jisne Mohabbat Ki Hai.

निकले हम दुनिया की भीड़ में तो पता चला,
कि हर वह शख्स अकेला है जिसने मोहब्बत की है।

Kis Khat Me Likh Kar Bhejoon Apne Intazaar Ko Tumhen,
Bejubaan Hain Ishq Mera Aur Dhoondhata Hai Khaamoshi Se Tujhe.

किस ख़त में लिख कर भेजूं अपने इंतज़ार को तुम्हें,
बेजुबां हैं इश्क़ मेरा और ढूंढता है ख़ामोशी से तुझे।

Leave a Comment