Benaam Sa Ye Dard

Benaam Sa Ye Dard

Benaam Sa Ye Dard Thehar Kyun Nahi Jata,
Jo Beet Gaya Hai Wo Gujar Kyun Nahi Jata,
Wo Ek Hi Chehra To Nahi Saare Jahan Me,
Jo Dur Hai Mujhse Wo Dil Se Utara Kyun Nahi

बेनाम सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता,
जो बीत गया है वो गुजर क्यों नहीं जाता,
वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में,
जो दूर है मुझसे वो दिल से उतर क्यों नहीं।

Benaam Sa Ye Dard - Hindi Dard Shayari

Dard Aankhon Me Jhalak Jata Hai Par Honthon Tak Nahin Aata,
Ye Mazboori Hai Mere Ishq Ki Jo Milta Hai Kho Jata Hai,
Use Bhoolne Ka Jazba To Har Roz Dil Me Aata Hai,
Par Kaise Bhula De Dil, Har Jarre Me Usko Pata Hai.

दर्द आँखों में झलक जाता है पर होंठों तक नहीं आता,
ये मज़बूरी है मेरे इश्क़ की जो मिलता है खो जाता है,
उसे भूलने का जज़्बा तो हर रोज़ दिल में आता है,
पर कैसे भुला दे दिल, हर जर्रे में उसको पाता है।

Nashe Mein Bhi Tera Hi Naam Labon Par Aata Hai,
Chalte Hue Mere Paanv Ladkhadate Hain,
Ek Tees Si Uthti Hai Dil Me Mere,
Jab Bhi Tera Diya Hua Dard Yaad Aata Hai.

नशे में भी तेरा ही नाम लबों पर आता है,
चलते हुए मेरे पाँव लड़खड़ाते हैं,
एक टीस सी उठती है दिल में मेरे,
जब भी तेरा दिया हुआ दर्द याद आता है।

Leave a Comment