Bewafa Kah Gaye

Bewafa Kah Gaye

Naseeb Ban Kar Koyi Zindagi Me Aata Hai,
Phir Khawab Ban Kar Aankhon Me Sama Jata Hai,
Yakeen Dilata Hai Ki Wo Hamara Hi Hai,
Phir Na Jane Kyun Waqt Ke Sath Badal Jata Hai.

नसीब बन कर कोई ज़िन्दगी में आता है,
फिर ख्वाब बन कर आँखों में समा जाता है,
यकीन दिलाता है कि वो हमारा ही है,
फिर ना जाने क्यों वक़्त के साथ बदल जाता है। 

Jaane Meri Aankhon Se Kitne Aansu Bah Gaye,
Insano Ki Is Bheed Me De Kho Hum Tanha Ho Gaye,
Karte The Jo Kabhi Apni Wafa Ki Baaten,
Aaj Bahi Sanam Hume Bewafa Kah Gaye.

जाने मेरी आँखों से कितने आँसू बह गए,
इंसानो की इस भीड़ में देखो हम तनहा रह गए,
करते थे जो कभी अपनी वफ़ा की बातें,
आज वही सनम हमें बेवफ़ा कह गए।

Leave a Comment