Bewafa Se Dil Lagane Ki Adat

Bewafa Se Dil Lagane Ki Adat

Jante The Nahi Ho Sakte Kabhi Tum Humare,
Phir Bhi Khuda Se Tumhen Magne Ki Adat Ho Gayi,
Paimane Wafa Kya Hain Hume Kya Maloom,
Ki Bewafa Se Dil Lagane Ki Adat Ho Gayi.

जानते थे कि नहीं हो सकते कभी तुम हमारे,
फिर भी खुदा से तुम्हें माँगने की आदत हो गयी,
पैमाने वफ़ा क्या है, हमें क्या मालूम,
कि बेवफाओं से दिल लगाने की आदत हो गयी।

Un Panchhiyon Ko Kaid Me Rakhna
Aadat Nahi Humari,
Jo Humare Dil Ke Pinjre Me Rahkar
Gairon Ke Saath Udhne Ka Shok Rakhte Ho.

उन पंछियों को कैद में रखना
आदत नही हमारी,
जो हमारे दिल के पिंजरे में रहकर
गैरों के साथ उड़ने का शौक रखते हों।

Mat Zikr Kijiye Meri Adaa Ke Bare Me,
Main Bahut Kuch Janta Hun Wafa Ke Bare Me,
Suna Hai Wo Bhi Mohabbat Ka Shok Rakhte Hain,
Jo Jante Hi Nahi Wafa Ke Bare Me.

मत ज़िकर कीजिये मेरी अदा के बारे में,
मैं बहुत कुछ जानता हूँ वफ़ा के बारे में,
सुना है वो भी मोहब्बत का शौक रखते हैं,
जो जानते ही नहीं वफ़ा के बारे में।

Apki Nashili Yaado Me Doobkar,
Humne Ishq Ki Gahrai Ko Samjha,
Aap To De Rahe The Dhokha Aur,
Humne Jankar Bhi Aapko Bewafa Na Samjha.

आपकी नशीली यादों में डूबकर,
हमने इश्क की गहराई को समझा,
आप तो दे रहे थे धोखा और,
हमने जानकर भी कभी आपको बेवफा न समझा।

Leave a Comment