Bewafai Ke Sher Pe

Bewafai Ke Sher Pe

Mohabbat Se Bhari Koyi Ghazal Use Pasand Nahi,
Bewafai Ke Har Sher Pe Wo Daad Diya Karte Hain.

मोहब्बत से भरी कोई गजल उसे पसंद नहीं,
बेवफाई के हर शेर पे वो दाद दिया करते हैं।

bewafai shayari

Kahte The Jo Teri Khatir Jaan Bhi Luta Denge,
Aaj Kahte Hain Mera Hath Chhod Do Izzat Ka Sawal Hai.

कहते थे जो तेरी खातिर जान भी लुटा देंगे,
आज कहते हैं मेरा हाथ छोड़ दो इज्जत का सवाल है।

Wafa Par Hume Ghar Llutana Tha Llekin,
Wafa Laut Gayi Lutane Se Pahle,
Chirag Tamnna Ka Jala To Diya Tha,
Magar Bujh Gay Jagmagne Se Pahle.

वफ़ा पर हमे घर लुटाना था लेकिन,
वफ़ा लौट गयी लुटाने से पहले,
चिराग तमन्ना का जला तो दिया था,
मगर बुझ गया जगमगाने से पहले।

Leave a Comment