Bheegi Bheegi Si

Bheegi Bheegi Si

Bheegi Bheegi Si Ye Jo Meri Likhabat Hai,
Shyahi Me Thodi Si, Mere Ashko Ki Milabat Hai.

भीगी भीगी सी ये जो मेरी लिखावट है,
स्याही में थोड़ी सी मेरे अश्कों की मिलावट है।

Ashqon Ki Milabat Shayari In Hindi

Dekh Unko Chashm-e-Nam Ma Khush Hua Hoon Aaj Yoon,
Hai Abhi Ummeed-e-Ulfat Kayam Apne Darmiyaan.

देख उनको चश्म-ए-नम मैं खुश हुआ हूँ आज यूँ
है अभी उम्मीद-ए-उल्फत कायम अपने दरमियां।

Palkon Ke Bandh Torh Ke Daaman Par Gir Gaya,
Ek Ashq Mere Zabt Ki Tauheen Kar Gaya.

पलकों के बंध तोड़ के दामन पर गिर गया,
एक अश्क मेरे ज़ब्त की तौहीन कर गया।

Rone Wale To Dil Mein Hi Ro Lete Hain,
Aankho Me Aansu Aayen Ye Zaruri To Nahi.

रोने वाले तो दिल में ही रो लेते हैं,
आँखों में आँसू आयें ये ज़रूरी तो नहीं

Leave a Comment