Bikhri Hui Zulf

Bikhri Hui Zulf

Bikhri Hui Zulf Ishaaron Me Keh Gayi,
Main Bhi Shareek Hun Tere Haal-e-Tabaah Me.

बिखरी हुई ज़ुल्फ़ इशारों में कह गई,
मैं भी शरीक हूँ तेरे हाल-ए-तबाह में।

Bikhri Hui Zulf - Zulf Shayari

Subah-Dum Zulfein Na Yun Bikhraiye,
Log Dhokha Kha Rahe Hain Shaam Ka.

सुबह-दम ज़ुल्फ़ें न यूँ बिखराइए
लोग धोका खा रहे हैं शाम का।

Teri Zulfon Ki Zanjeer Mil Jaati To Achha Tha,
Tere Labon Ki Wo Lakeer Mil Jaati To Achha Tha.

तेरी जुल्फों की ज़ंजीर मिल जाती तो अच्छा था,
तेरे लबों की वो लकीर मिल जाती तो अच्छा था।

Laharaati Zulfen Kajaraare Nayan Aur Ye Raseele Honth,
Bas Katl Baaki Hai Auzaar To Sab Poore Hain,

लहराती ज़ुल्फें कजरारे नयन और ये रसीले होंठ,
बस कत्ल बाकी है औज़ार तो सब पूरे है।

Leave a Comment