Bikne Wale Aur Bhi Hain, Attitud Shayari

Bikne Wale Aur Bhi Hain, Attitud Shayari

Bikne Wale Aur Bhi Hain Jao Jakar Khareed Lo,
Hum Kimat Se Nahin Kismat Se Mila Karte Hain.

बिकने वाले और भी हैं जाओ जाकर खरीद लो,
हम कीमत से नहीं किस्मत से मिला करते हैं।

Bikne Wale Aur Bhi Hain

Aasmaan Me Udhne Wale Jara Ye Khabar Bhi Rakh,
Jannat Pahuchne Ka Rasta Mitti Se Hi Gujarta Hai.

आसमान में उड़ने वाले जरा ये खबर भी रख। 
जन्नत पहुँचने का रास्ता मिट्टी से ही गुजरता है।

Tum Girane Me Lage The Tum Ne Socha Bhi Nahin,
Main Gira To Masla Bankar Khada Ho Jaoonga.

तुम गिराने में लगे थे तुम ने सोचा भी नहीं,
मैं गिरा तो मसअला बनकर खड़ा हो जाऊँगा।

Mujh Ko Chalne Do Akela Hai Abhi Mera Safar,
Raasta Roka Gaya To Qaafila Ho Jaoonga.

मुझ को चलने दो अकेला है अभी मेरा सफ़र,
रास्ता रोका गया तो क़ाफ़िला हो जाऊँगा।

Mera Virodh Karna Aasaan Hai Mera Virodhi Banana Sambhav Nahi,
Kyuki Jab Jab Main Bikhra Hoon… Dugni Raftar Se Nikhra Hoon.

मेरा विरोध करना आसान है मेरा विरोधी बनना संभव नही,
क्यूंकि जब जब मैं बिखरा हूँ… दुगनी रफ़्तार से निखरा हूँ

Leave a Comment