Bikti Hai Bewafai

Bikti Hai Bewafai

Kaise Yakeen Kare Hum Teri Mohabbat Ka,
Jab Bikti Hai Bewafai Tere Hi Naam Se.

कैसे यकीन करे हम तेरी मोहब्बत का,
जब बिकती है बेवफाई तेरे ही नाम से।

Mohabbat Ka Natija Duniya Mein Humne Bura Dekha,
Jinhe Dava Tha Wafa Ka Unhen Bhi Humne Bewafa Dekha.

मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा,
जिन्हें दावा था वफ़ा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा।

Meri Zindagi To Gujri Tere Hijr Ke Sahare,
Meri Maut Ko Bhi Pyare Koi Chahiye Bahana.

मेरी ज़िंदगी तो गुज़री तेरे हिज्र के सहारे,
मेरी मौत को भी प्यारे कोई चाहिए बहाना।
~ Jigar Moradabadi

Kaise Kah Dun Ki Mujhe Chhod Diya Hai Us Ne,
Baat To Sach Hai Ye Magar Baat Hai Ruwai Ki.

कैसे कह दूँ कि मुझे छोड़ दिया है उस ने,
बात तो सच है ये मगर बात है रुस्वाई की।
~ Parveen Shakir

Leave a Comment