Bimare-Ishq

Bimare-Ishq

Ghazal-E-Ulfat Parh Lia Karo,
Ek Khurak Subah Ek Khurak Sham,
Ye Wahi Dava Hai Jisse,
Bimare-Ishq Ko Milta Hai Turant Aram.

गजल-ए-उल्फत पढ़ लिया करो,
एक खुराक सुबह एक खुराक शाम,
ये वही दवा है जिससे,
बीमारे-इश्क को मिलता है तुरंत आराम।

Khuda Ne Jab Ishq Banaya Hoga,
To Khud Ajmaya Hoga,
Hamari To Aukaat Hi Kya Hai,
Is Ishq Ne Khuda Ko Bhi Rulaya Hoga.

खुदा ने जब इश्क़ बनाया होगा,
तो खुद आज़माया होगा,
हमारी तो औकात ही क्या है,
इस इश्क़ ने खुदा को भी रुलाया होगा।

Ishq Ek Hunar Hai Ya Aadat Ishq Hai,
Gar Sachchi Ho Chahat To Ibadat Ishq Hai.
Fark Bas Nazariye Ka Hai,
Usaki Nazar Me Qurbat Bhi Ishq Nahin.
Aur Meri Nazar Mein
Uski Ek Aahat Bhi Ishq Hai.

इश्क़ एक हुनर है या आदत इश्क़ है,
ग़र सच्ची हो चाहत तो इबादत इश्क़ है।
फर्क बस नज़रिये का है,
उसकी नज़र में क़ुर्बत भी इश्क़ नहीं।
और मेरी नज़र में
उसकी एक आहट भी इश्क़ है।

Leave a Comment