Chand Achha Tha

Chand Achha Tha

Mohabbat Thi, To Chand Achha Tha,
Utar Gai To Daag Bhi Dikhne Laga.

मोहब्बत थी, तो चाँद अच्छा था,
उतर गई, तो दाग भी दिखने लगे।

2 line Shayari Chand Achha Tha

Ai Mere Khuda, Agar Tere Pen Ki Syahi Khatm Hai,
To Mera Lahoo Lele, Yun Kahaniyan Adhuri Na Likha Kar.

ए मेरे खुदा, अगर तेरे पेन की स्याही खत्म है,
तो मेरा लहू लेले, यूँ कहानियाँ अधूरी न लिखा कर।

Ab Log Poochhte Hain Hamse Tum Kuchh Badal Gaye Ho,
Batao Toote Huye Patte Ab Rang Bhi Na Badalen Kya.

अब लोग पूछते हैं हमसे तुम कुछ बदल गए हो,
बताओ टूटे हुए पत्ते अब रंग भी न बदलें क्या।

Teri Jagah Aaj Bhi Koi Nahin Le Sakta,
Pata Nahin Vajah Teri Khoobi Hai Ya Meri Kami.

तेरी जगह आज भी कोई नहीं ले सकता,
पता नहीं वजह तेरी खूबी है या मेरी कमी।

Tumhara Saath Tasalli Se Chahiye Mujhe,
Janmo Ki Thakaan Lamho Me Kahan Utarti Hai.

तुम्हारा साथ तसल्ली से चाहिए मुझे,
जन्मों की थकान लम्हों में कहाँ उतरती है।

Leave a Comment