Chand Kaliyan Laash Pe

Chand Kaliyan Laash Pe

Do Ashq Meri Yaad Me Bahaa Jate To Kya Jata,
Chand Kaliyan Laash Pe Bichha Jate To Kya Jata,
Aaye Ho Meri Mayyat Par Sanam Naqaab Odhkar,
Agar Ye Chand Ka Tukda Dikha Jaate To Kya Jata.

दो अश्क मेरी याद में बहा जाते तो क्या जाता,
चंद कलियाँ लाश पे बिछा जाते तो क्या जाता,
आये हो मेरी मय्यत पर सनम नकाब ओढ़कर.
अगर ये चाँद का टुकड़ा दिखा जाते तो क्या जाता।

Laash Shayari, Maut Shayari

Dosti Jab Kisi Se Ki Jaaye To Dushmano Ki Bhi Raay Li Jaaye,
Maut Ka Zahar Hai Fizaon Me Ab Kahaan Ja Kar Saans Li Jaaye,
Bas Isi Soch Me Hun Dooba Hua Ki Ye Nadi Kaise Paar Ki Jaaye,
Mere Maazi Ke Zakhm Bharne Lage Hain Aaj Phir Koi Bhool Ki Jaaye.
~ Rahat Indori

दोस्ती जब किसी से की जाये तो दुश्मनों की भी राय ली जाये,
मौत का ज़हर है फिज़ाओं में अब कहाँ जा कर सांस ली जाये,
बस इसी सोच में हूँ डूबा हुआ कि ये नदी कैसे पार की जाये,
मेरे माज़ी के ज़ख़्म भरने लगे हैं आज फिर कोई भूल की जाये।
~ Rahat Indori

Leave a Comment