Chhalakte Hoton Se

Chhalakte Hoton Se

Chhalakte Hoton Se Chhu Ke,
Hoton Ko Unhone Pyala Bana Dala,
Pass Aai Kuch Wo Aise,
Zindagi Ko Unhone Madhushala Bana Dala.

छलकते होठो से छू के,
होठो को उन्होंने प्याला बना डाला,
पास आयी कुछ वो ऐसे,
जिन्दगी को उन्होंने मधुशाला बना डाला।

Chhalakte Hotho Se - Sharab Hindi Shayari

Husn Par Jab Bhi Masti Chhati Hai,
Tab Shayari Par Bahaar Aati Hai,
Peeke Mahaboob Ke Badan Ki Sharab,
Zindagi Jhoom-Jhoom Jaati Hai.

हुस्न पर जब भी मस्ती छाती है,
तब शायरी पर बहार आती है,
पीके महबूब के बदन की शराब,
जिंदगी झूम-झूम जाती है।

Pee Hai Sharab Har Gali Ki Dukaan Se,
Dosti Si Ho Gayi Hai Sharab Ki Jaam Se,
Gujre Hain Ham Kuchh Aise Mukaam Se,
Aankhen Bhar Aati Hain Mohabbat Ke Naam Se.

पी है शराब हर गली की दुकान से,
दोस्ती सी हो गयी है शराब की जाम से,
गुज़रे हैं हम कुछ ऐसे मुकाम से,
आँखें भर आती है मोहब्बत के नाम से।

Leave a Comment