Chhedi Ho Zulfein Aap Ki

Chhedi Ho Zulfein Aap Ki

Haath Tute Maine Gar Chhedi Ho Zulfein Aap Ki,
Aap Ke Sar Ki Kasam Baad-e-Sabaa Thi Main Na Tha.

हाथ टूटे मैंने गर छेड़ी हो जुल्फें आप की,
आप के सर की कसम बाद-ए-सबा थी मैं न था।

Chhedi Ho Jo Zulfein Aap Ki - Best Zulf Shayari

Unki Gahari Neend Ka Manzar Bhi Kitana Haseen Hota Hoga,
Takiya Kahin, Zulfen Kahin, Aur Vo Khud Kahin.

उनकी गहरी नींद का मंज़र भी कितना हसीन होता होगा,
तकिया कहीं ज़ुल्फ़ें कहीं और वो खुद कहीं।

Disambar Se Bhi Thanda Hai Teri Zulfon Ka Saaya,
Jee Chaahata Hai Ki Jun Tere Pas Aakar Gujaaroon .

दिसम्बर से भी ठण्डा है तेरी ज़ुल्फ़ का साया,
जी चाहता है की जून तेरे पास आकर गुजारूं।

Ye Kisaka Dhal Gaya Hai Aanchal, Taaron Ki Nigaah Jhuk Gayi Hai,
Ye Kisaki Machal Gayi Hain Julfein, Jaati Huyi Raat Ruk Gayi Hai.

ये किसका ढल गया है आँचल, तारों की निगाह झुक गयी है,
ये किसकी मचल गयी हैं जुल्फें, जाती हुई रात रुक गयी है।

Leave a Comment