Dard Ho Gaya Waqif

Dard Ho Gaya Waqif

Mujhko Dhhundh Leta Hai Har Roj Naye Bahaane Se,
Dard Ho Gaya Hai Waqif Mere Har Thhikaane Se.

मुझको ढूढ़ लेता है हर रोज नए बहाने से,
दर्द हो गया है वाकिफ मेरे हर ठिकाने से।

Dard Ho Gaya Wakif - Dard Shayari

Pyar Kisi Aise Se Karo Jiski Zindagi Me Dard Ho,
Kyonki Wo Insaan Kabhi Dhokha Nahin De Sakta.

प्यार किसी ऐसे से करो जिसकी ज़िन्दगी में दर्द हो,
क्योंकि वो इंसान कभी धोखा नहीं दे सकता।

Jo Log Dard Ko Samajhte Hain,
Wo Log Kabhi Bhi Dard Ki Bajah Nahi Bante.

जो लोग दर्द को समझते हैं,
वो लोग कभी भी दर्द की वज़ह नही बनते।

Mera Dard Kisi Ki Hasne Ki Bajah Jarur Ban Sakta Hai,
Lekin Meri Hansi Kisi Ke Dard Ki Bajah Nahin Banani Chaahiye.

मेरा दर्द किसी की हसने की वजह जरुर बन सकता है,
लेकिन मेरी हँसी किसी के दर्द की वजह नहीं बननी चाहिए।

Leave a Comment