Dard Ka Asar Aakhiri

Dard Ka Asar Aakhiri

Mohabbat Ka Mere Safar Aakhiri Hai,
Ye Kagaz Kalam Ye Ghazal Aakhiri Hai,
Main Fir Na Milunga Kahin Dhoondh Lena,
Tere Dard Ka Ab Ye Asar Aakhiri Hai.

मोहब्बत का मेरे सफ़र आखिरी है,
ये कागज़ कलम ये गज़लआखिरी है,
मैं फिर न मिलूँगा कहीं ढूढ लेना,
तेरे दर्द का अब ये असर आखिरी है।

Aur Bhi Banti Lakeere Dard Ki Shayad Kai,
Sukr Hai Tera Khuda Jo Hath Chhota Sa Diya,
Tune Jo Bkhsi Hume Bas Chaar Din Ki Chandni,
Ya Khuda Accha Kiya Jo Saath Chhota Sa Diya.

और भी बनती लकीरें दर्द की शायद कई,
शुक्र है तेरा खुदा जो हाथ छोटा सा दिया,
तूने जो बख्शी हमें बस चार दिन की ज़िंदगी,
या ख़ुदा अच्छा किया जो साथ छोटा सा दिया।

Sabne Kaha Ishq Dard Hai,
Humne Kaha Yeh Dard Bhi Kabool Hai,
Sabne Kaha Is Dard Ke Saath Jee Nahi Paoge,
Humne Kaha Is Dard Ke Saath Marna Bhi Kabool Hai.

सबने कहा इश्क़ दर्द है,
हमने कहा यह दर्द भी क़बूल है,
सबने कहा इस दर्द के साथ जी नहीं पाओगे,
हमने कहा इस दर्द के साथ मरना भी क़बूल है।

Leave a Comment