Dard Me Muskraana

Dard Me Muskraana

Isi Khayal Se Gujri Hai Shaam-e-Gham Aksar,
Ke Dard Hadd Se Jo Barhega To Muskura Dunga.

इसी ख्याल से गुजरी है शाम-ए-ग़म अक्सर,
के दर्द हद से जो बढ़ेगा तो मुस्करा दूंगा।

 

Leave a Comment