Dard Mein Izafa

Dard Mein Izafa

Na Dard Hua Seene Me, Na Maathe Pe Shikan Aayi,
Is Baar Jo Dil Toota To Bas Chehre Pe Muskaan Aayi.

ना दर्द हुआ सीने में, ना माथे पे शिकन आयी,
इस बार जो दिल टूटा तो बस चेहरे पे मुस्कान आयी।

Aur Bhi Kar Deta Hai Mere Dard Mein Izafa,
Tere Rahte Huye Ghairon Ka Dilaasa Dena.

और भी कर देता है मेरे दर्द में इज़ाफ़ा,
तेरे रहते हुए गैरों का दिलासा देना।

sad man

Tere Rone Se Unhe Koi Fark Nahin Padta Ai Dil,
Jinke Chahne Wale Jyada Ho Wo Aksar Be-Dard Hua Karte Hain.

तेरे रोने से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता ऐ दिल,
जिनके चाहने वाले ज्यादा हो वो अक्सर बे-दर्द हुआ करते हैं।

Sab So Gaye Apna Dard Apno Ko Suna Ke,
Koi Hota Mera To Mujhe Bhi Neend Aa Jaati.

सब सो गए अपना दर्द अपनों को सुना के,
कोई होता मेरा तो मुझे भी नींद आ जाती।

Nafrat Karna To Kabhi Seekha Hi Nahin Janaab,
Hamne Dard Ko Bhi Chaha Hai Apna Samajh Kar.

नफ़रत करना तो कभी सीखा ही नहीं जनाब,
हमने दर्द को भी चाहा है अपना समझ कर।

Leave a Comment