Dard-O-Gham

Dard-O-Gham

Bad Raha Hai Dard-O-Gham Usko Bhula Dene Ke Baad,
Yaad Uski Aur Aai Khat Jala Dene Ke Baad.

बड़ रहा है दर्द-ओ-गम उसको भूला देने के बाद,
याद उसकी और आयी खत जला देने के बाद।

burn letter

Dard To Aise Piche Pad Gaya Hai Mere,
Jaise Main Uski Pahli Mohabbat Hun.

दर्द तो ऐसे पीछे पड़ा गया है मेरे,
जैसे मैं उसकी पहली मोहब्बत हूँ।

Dard-E-Hijarat Ke Sataye Huye Logon Ko Kahin,
Saaya-E-Dar Bhi Nazar Aaye To Ghar Lagta Hai.

दर्द-ए-हिजरत के सताए हुए लोगों को कहीं,
साया-ए-दर भी नज़र आए तो घर लगता है।

Na Kiya Kar Apne Dard Ko Shayari Me Bayaan Ai Dil,
Kuchh Log Toot Jate Hain Ise Apni Daastan Samajh Kar.

न किया कर अपने दर्द को शायरी में बयां ऐ दिल,
कुछ लोग टूट जाते हैं  इसे अपनी दास्ताँ समझ कर।

Sunshaan Si Lag Rahi Hai Ye Shaayaron Ki Basti,
Kya Kisi Ke Dil Me Dard Nahin Raha.

सुनशान सी लग रही है ये शायरों की बस्ती,
क्या किसी के दिल में दर्द नहीं रहा।

Leave a Comment