Deedar Ke Mohataz Hain

Deedar Ke Mohataz Hain

Talab Aisi Ki Basa Lein Apni Saanso Me Tujhe Hum,
Aur Kismat Aisi Ki Deedar Ke Bhi Mohataz Hain Hum.

तलब ऐसी की बसा लें अपनी सांसों में तुझे हम,
और किस्मत ऐसी कि तेरे दीदार के भी मोहताज़ हैं हम।

Leave a Comment